आकर्षक ब्लॉग ग्रह, उपग्रह, और ब्रह्माण्ड विज्ञान के बारे में तक्षशिला और नालंदा विश्व विद्यालयों को अग्नि की भेंट कर वो कहते हैं तुम अज्ञानी होपश्चिम की शिक्षा को ही कल्याण का मार्ग समझाया जाता हैसत्य हम जानते हैंहमें यह नहीं, विश्व गुरु की शिक्षा चाहिए- तिलक संपादक युगदर्पण. 9911111611, 9999777358.

बिकाऊ मीडिया -व हमारा भविष्य

: : : क्या आप मानते हैं कि अपराध का महिमामंडन करते अश्लील, नकारात्मक 40 पृष्ठ के रद्दी समाचार; जिन्हे शीर्षक देख रद्दी में डाला जाता है। हमारी सोच, पठनीयता, चरित्र, चिंतन सहित भविष्य को नकारात्मकता देते हैं। फिर उसे केवल इसलिए लिया जाये, कि 40 पृष्ठ की रद्दी से क्रय मूल्य निकल आयेगा ? कभी इसका विचार किया है कि यह सब इस देश या हमारा अपना भविष्य रद्दी करता है? इसका एक ही विकल्प -सार्थक, सटीक, सुघड़, सुस्पष्ट व सकारात्मक राष्ट्रवादी मीडिया, YDMS, आइयें, इस के लिये संकल्प लें: शर्मनिरपेक्ष मैकालेवादी बिकाऊ मीडिया द्वारा समाज को भटकने से रोकें; जागते रहो, जगाते रहो।।: : नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक विकल्प का सार्थक संकल्प - (विविध विषयों के 28 ब्लाग, 5 चेनल व अन्य सूत्र) की एक वैश्विक पहचान है। आप चाहें तो आप भी बन सकते हैं, इसके समर्थक, योगदानकर्ता, प्रचारक,Be a member -Supporter, contributor, promotional Team, युगदर्पण मीडिया समूह संपादक - तिलक.धन्यवाद YDMS. 9911111611: :

Sunday, September 4, 2016

शिक्षक दिवस

शिक्षक दिवस - इतना तो हम सभी जानते हैं कि भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन (5 सितंबर) भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। किन्तु क्यों ? संभवतः सब नहीं जानते हों। 
सर्वपल्ली डॉ राधा कृष्णन जी
सर्वपल्ली राधाकृष्णन
वैसे तो विश्व के कई देशों में गुरु के सम्मान में टीचर्स डे अर्थात शिक्षक दिवस मनाया जाता है किन्तु भारत में यह परम्परा युगों युगों से चली आ रही है। सत युग हो द्वापर या त्रेता गुरु शिष्य परम्परा के अनुपम उदाहरण मिलते हैं। जिसमें गुरु को साक्षात् परमेश्वर का स्थान दिया गया है। 

'गुरु ब्रह्मा, गुरुर्विष्णु गुरुर्देवो महेश्वरः। 
गुरुः साक्षात परब्रह्म तस्मैः श्री गुरुवेः नमः।।' 
अर्थात गुरू ही ब्रहमा है, गुरू ही विष्णु है और गुरु की महेश है। साक्षात परब्रह्म स्वरूप ऐसे गुरू को नमस्कार। 
5 सित 1888 को तमिलनाडु में जन्मे, स्वतन्त्र भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति 1952 से 1962 रहे डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन, डॉ राजेन्द्र प्रसाद के पश्चात् भारत के द्वितीय राष्ट्रपति बने। वे भारतीय संस्कृति के संवाहक, महान दार्शनिक और एक आस्थावान हिन्दू विचारक होने के साथ ही एक प्रख्यात शिकसजविद भी थे। इन्हीं गुणों के कारण सन् 1954 में भारत सरकार ने उन्हें सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से अलंकृत किया था। उन्हीं के जन्मदिन (5 सितंबर) को भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। 
राजनीती में आने से पूर्व उन्होंने अपने जीवन के महत्वपूर्ण 40 वर्ष शिक्षक के रूप में व्यतीत किये थे। उनमें एक आदर्श शिक्षक के सारे गुण उपस्थित थे। उन्होंने अपना जन्म दिन अपने व्यक्तिगत नाम से नहीं अपितु सम्पूर्ण शिक्षक समुदाय को सम्मानित किये जाने के उद्देश्य से शिक्षक दिवस के रूप में मनाने की इच्छा व्यक्त की थी जिसके परिणामस्वरूप आज भी सारे देश में उनका जन्म दिन (5 सितम्बर) को प्रति वर्ष शिक्षक दिवस के नाम से ही मनाया जाता है। 
भारत तथा भारतीयता के शत्रु , जो हमारे इतिहास को मिटाने नकारने के लिए कुतर्कों का सहारा लेते रहते हैं, अवश्य ही मेरी बात को झुठलाने हेतु यह कुतर्क दे सकते है कि शिक्षक का महत्त्व आप युगों युगों से मानते रहे हैं क्या प्रमाण है?  सर्वपल्ली डॉ राधा कृष्णन जी 19 वीं शताब्दी के हैं तो उनका जन्मदिन (५ सितंबर) भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाकर कैसे कह सकते हैं कि गुरु युगों युगों से आपके पूजनीय रहे हैं। आपने तो शिक्षक को सम्मान देना 19 वीं शताब्दी में शुरू किया है।
इसे स्पष्ट करने हेतु विवेचन करें भारतीय इतिहास और साहित्य का, जो ऐसे प्रमाणों से भरा पड़ा है। मेरी बात की सत्यता को प्रमाणित करने तथा उनके कुतर्कों का सामना करने हेतु उनमें से कुछ ही जिज्ञासा शाँत करने में सक्षम हैं। आइये, उनमें से कुछ का अवलोकन करते हैं। --
618 वर्ष पूर्व जन्मे संत कबीर दास के दोहे में 'गुरु शिष्य'
इस विषय के 50 में से यहाँ मात्र 10 दोहे ही लिए गए है।

(41)
गुरु गोबिंद दोऊ खड़े, का के लागूं पाय।
बलिहारी गुरु आपणे, गोबिंद दियो मिलाय॥
(42)
गुरु कीजिए जानि के, पानी पीजै छानि ।
बिना विचारे गुरु करे, परे चौरासी खानि॥
(43)
सतगुरू की महिमा अनंत, अनंत किया उपकार।
लोचन अनंत उघाडिया, अनंत दिखावणहार॥
(44)
गुरु किया है देह का, सतगुरु चीन्हा नाहिं ।
भवसागर के जाल में, फिर फिर गोता खाहि॥
(45) 
शब्द गुरु का शब्द है, काया का गुरु काय।
भक्ति करै नित शब्द की, सत्गुरु यौं समुझाय॥
(46)
बलिहारी गुर आपणैं, द्यौंहाडी कै बार।
जिनि मानिष तैं देवता, करत न लागी बार।।
(47)
कबीरा ते नर अन्ध है, गुरु को कहते और। 
हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर ॥
(48) 
जो गुरु ते भ्रम न मिटे, भ्रान्ति न जिसका जाय।
सो गुरु झूठा जानिये, त्यागत देर न लाय॥
(49)
यह तन विषय की बेलरी, गुरु अमृत की खान।
सीस दिये जो गुरु मिलै, तो भी सस्ता जान॥
(50) 
गुरु लोभ शिष लालची, दोनों खेले दाँव।
दोनों बूड़े बापुरे, चढ़ि पाथर की नाँव॥ 
संत कबीर दास जी के लेखन का स्तर एक तो 700 वर्ष पूर्व के भारत की शिक्षा और बौद्धिक स्तर को दर्शाता है दूसरे उन्होंने गुरु महिमा का वर्णन जिस प्रकार किया है उससे यह स्पष्ट होता है कि उन्हें एक श्रेष्ठ गुरु का सानिध्य मिला, जिससे गुरु के प्रति उनके मन में आसक्ति थी तथा सबसे प्रमुख 700 वर्ष पूर्व के भारत में गुरु शिष्य परम्परा के अन्तर्गत एक सामान्य जुलाहे के मन में भी गुरु के प्रति कितना आदर सम्मान का भाव है। जब हमारे भारत में शिक्षक दिवस को औपचारिक रूप में नहीं मनाया जाता था। 
अर्थात भारत में शिक्षक दिवस भले ही औपचारिक रूप में अब मनाया जाता है। इसका अर्थ यह नहीं कि शिक्षक का सम्मान नहीं था अपितु यह प्रमाण है कि आदर सम्मान अनुभूति है जो किसी भी औपचारिकता पर आश्रित नहीं है। यह मेरी बात की सत्यता को और भी बलपूर्वक स्पष्ट व प्रमाणित करता है। 
हमें, यह मैकाले की नहीं, विश्वगुरु की शिक्षा चाहिए।
आओ, जड़ों से जुड़ें, मिलकर भविष्य उज्जवल बनायें।।- तिलक

Saturday, July 16, 2016

अंतरर्राज्य परिषद् की 11वीं बैठक को प्रमं का उद्घाटन सम्बोधन

अंतरर्राज्य परिषद् की 11वीं बैठक को प्रमं का उद्घाटन सम्बोधन 
खुफिया सूचना साझा करने पर फोकस करें राज्यः मोदीनदि तिलक। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुमं व उप-राज्यपाल और कबीना सहयोगियों, से अंतर्राज्यीय परि की इस मुख्य बैठक के उद्घाटन सम्बोधन में स्वागत करते हुए प्र मं मोदी ने उनसे कहा- ऐसे अवसर कम ही आते हैं जब केंद्र और राज्यों का नेतृत्व एक साथ एक स्थान पर उपस्थित हो। मोदी ने इसे आम जनता के हितों पर बात करने के लिए, उनकी समस्याओं के निपटारे के लिए, एक साथ मिलकर ठोस निर्णय लेने के लिए सहकारी संघवाद का यह मंच, श्रेष्ठ उदाहरण तथा संविधान निर्माताओं की दूरदृष्टि को दर्शाने वाला भी बताया है। 
मोदी ने 3 डी पर बल देते कहा प्राय: 16 वर्ष पूर्व इसी मंच से कही गई पूर्व प्रधानमंत्री और हमारे श्रद्धेय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी की बात से शुरु करूंगा, वाजपेयी जी ने कहा था कि- 
“भारत जैसे बड़े और विविधता से भरे हुए लोकतंत्र में Debate यानि वाद-विवाद, Deliberation यानि विवेचना और Discussion यानि विचार-विमर्श से ही ऐसी नीतियां बन सकती हैं जो जमीनी सच्चाई का ध्यान रखती हों। ये तीनों बातें, नीतियों को प्रभावी तरीके से अमल में लाने में भी मदद करती हैं। इंटर स्टेट काउंसिल एक ऐसा मंच है जिसका इस्तेमाल नीतियों को बनाने और उन्हें लागू करने में किया जा सकता है। इसलिए लोकतंत्र, समाज और हमारी राज्य व्यवस्था को मजबूत करने के लिए, इस मंच का प्रभावी उपयोग किया जाना चाहिए”। 
मोदी ने इसे केंद्र -राज्य और अंतर्राज्यीय सम्बन्धों को सुदृढ़ करने का सबसे बड़ा मंच बताया। जबकि 2006 के बाद लंबे अंतराल तक ये बैठक नहीं हो पाई, किन्तु गृहमंत्री राजनाथ सिंह के इस प्रक्रिया को फिर से शुरू करने का प्रयास पर उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त करते कहा कि गत एक वर्ष में वे देश भर की पाँच आंचलिक परिषदों की बैठक बुला चुके हैं। मोदी ने कहा कि इस मध्य संवाद और संपर्क का क्रम बढ़ने का ही परिणाम है कि आज हम सभी यहां एकत्र हुए हैं। 
मोदी ने कहा देश का विकास तभी संभव है जब केंद्र और राज्य सरकारें कंधे से कंधा मिलाकर चलें। किसी भी सरकार के लिए कठिन होगा कि वो मात्र अपने दम पर कोई योजना को सफल कर सके। इसलिए दायित्वों के साथ ही वित्तीय संसाधनों की भी अपनी महत्ता है। 14वें वित्त आयोग की अनुशंसाओं की स्वीकृति के साथ केंद्रीय करों में राज्यों की भागीदारी 32 % से बढ़ाकर 42 % कर दी गई है। अर्थात अब राज्यों के पास अधिक राशि आ रही है जिसका उपयोग वो अपनी आवश्यकतानुसार कर रहे हैं।राज्यों को केंद्र से वर्ष 2014-15 की तुलना में गत वर्ष 2015-16 के 21 % अधिक राशि मिलने पर प्रसन्नता व्यक्त करते कहा इसी प्रकार पंचायतों और स्थानीय निकायों को 14वें वित्त आयोग की अवधि में 2 लाख 87 हजार करोड़ रुपए की राशी मिलेगी जो विगत से काफी अधिक है। 
प्राकृतिक संसाधनों से होने वाली आय में भी राज्यों के अधिकारों का ध्यान रखा जा रहा है। कोयला खदानों की नीलामी से राज्यों को आने वाले वर्षों में 3 लाख 35 हजार करोड़ रुपए की राशी मिलेगी। कोयले के अतिरिक्त भी दूसरे खनन से राज्यों को 18 हजार करोड़ रुपए की राशी मिलेगी। इसी प्रकार एक कानून में परिवर्तन द्वारा बैंक में रखे हुए प्राय: 40 हजार करोड़ रुपए को भी राज्यों को देने का प्रयास किया जा रहा है। 
व्यवस्था में पारदर्शिता बढ़ने के कारण जो राशी बच रही है, उसे भी केंद्र सरकार आपके साथ साझा करना चाहती है। एक उदाहरण केरोसिन का ही है। गावों में बिजली कनेक्शन बढ़ रहे हैं। आने वाले तीन वर्ष में सरकार 5 करोड़ नए गैस कनेक्शन देने जा रही है। रसोई गैस की आपूर्ति भी और बढ़ेगी। इन प्रयासों का सीधा प्रभाव केरोसिन की खपत पर पड़ा है। अभी चंडीगढ़ प्रशासन ने अपने शहर को केरोसिन मुक्त क्षेत्र घोषित किया है। अब केंद्र सरकार ने एक योजना शुरू की है जिसके तहत केरोसिन की खपत में कमी करने पर, केंद्र छूट के रूप में जो पैसा खर्च करता था, उसका 75 % राज्यों को अनुदान के रूप में देगा। कर्नाटक सरकार ने इस पहल पर तेजी दिखाते हुए अपना प्रस्ताव पेट्रोलियम मंत्रालय को भेज दिया था, जिसे स्वीकार करने के बाद राज्य सरकार को अनुदान का भुगतान कर दिया गया है। यदि सभी राज्य केरोसिन की खपत को 25 % कम करने का निर्णय लेते हैं और इस पर व्यवहार करके दिखाते हैं, तो इस वर्ष उन्हें प्राय: 1600 करोड़ रुपए के अनुदान का लाभ मिल सकता है। 
उनके सम्बोधन में प्राय: ये बातें भी कही गईं -
केंद्र -राज्य सम्बन्धों के साथ ही अं परि उन विषयों पर भी चर्चा का मंच है जो देश की बड़ी संख्या से जुड़े हुए हैं। कैसे नीति-निर्धारण के स्तर पर इन मुद्दों को सुलझाने के लिए एक राय बनाई जा सकती है, कैसे एक दूसरे से परस्पर जुड़े विषयों को सुलझाया जा सकता है। 
इसलिए इस बार अं परि में पुंछी आयोग की रपट के साथ ही तीन और मुख्य विषयों को कार्यावली में रखा गया है।
पहला है- ‘आधार’ । संसद से ‘आधार’ एक्ट 2016 पास हो चुका है। इस कानून के पास होने के बाद अब हमें चाहे छूट हो या फिर सभी दूसरी सुविधाएं, ‘कहते में नगत स्थांतरण’ के लिए आधार के प्रयोग की सुविधा मिल गई है। 128 करोड़ की संख्या वाले हमारे देश में अब तक 102 करोड़ लोगों को आधार कार्ड बांटे जा चुके हैं। यानि अब देश की 79 % जनसंख्या के पास आधार कार्ड है। यदि वयस्कों की बात करें तो देश के 96 % नागरिकों के पास आधार कार्ड है। आप सभी के समर्थन से इस वर्ष के अंत तक हम देश के हर नागरिक को आधार कार्ड से जोड़ लेंगे। 
आज के समय में साधारण सा आधार कार्ड, लोगों के सशक्तिकरण का प्रतीक बन गया है। सरकारी छूट या सहायता पर जिस व्यक्ति का अधिकार है, अब उसे ही इसका लाभ मिल रहा है, पैसा सीधे उसी के खाते में जा रहा है। इससे पारदर्शिता तो आई ही है, हजारों करोड़ रुपए की बचत हो रही है जिसे विकास के काम पर व्यय किया जा रहा है। 
मित्रों, बाबा साहेब अम्बेडकर ने लिखा था कि- “भारत जैसे देश में सामाजिक सुधार का मार्ग उतना ही कठिन है, उतनी ही अड़चनों से भरा हुआ है जितना स्वर्ग जाने का मार्ग। जब आप सामाजिक सुधार की सोचते हैं तो आपको मित्र कम, आलोचक अधिक मिलते हैं” । 
आज भी उनकी लिखी बातें, उतनी ही प्रासंगिक है। इसलिए आलोचनाओं से बचते हुए, हमें एक दूसरे के साथ सहयोग करते हुए, सामाजिक सुधार की योजनाओं को आगे बढ़ाने पर बल देना होगा। इनमें से बहुत सी योजनाओं की रूप-रेखा, नीति आयोग में मुख्यमंत्रियों के ही उप-समूह ने तैयार की है। 
अं परि में जिस एक और मुख्य विषय पर चर्चा होनी है, वह है शिक्षा । भारत की सबसे बड़ी शक्ति हमारे युवा ही हैं। 30 करोड़ से अधिक बच्चे अभी स्कूल जाने वाली आयु में हैं। इसलिए हमारे देश में आने वाले कई वर्षों तक विश्व को कुशल जनशक्ति देने की क्षमता है। केंद्र और राज्यों को मिलकर बच्चों को शिक्षा का ऐसा वातावरण देना होगा जिसमें वे आज की आवश्यकतानुसार स्वयं को तैयार कर सकें, अपने कौशल का विकास कर सकें। 
पंडित दीन दयाल उपाध्याय जी के शब्दों में कहें तो- शिक्षा एक निवेश है। हम पेड़-पौधों को लगाते समय उनसे कोई शुल्क नहीं लेते। हमें पता होता है कि यही पेड़-पौधे आगे जाकर हमें प्राण वायु देंगे, पर्यावरण में सहयोग करेंगे। उसी प्रकार शिक्षा भी एक निवेश है जिसका लाभ समाज को होता है। 
पंडित दीन दयाल उपाध्याय जी ने ये बातें 1965 में कहीं थीं। तब से लेकर आज तक हम शिक्षा की दृष्टि से बहुत लंबी यात्रा पूरी कर चुके हैं। किन्तु अब भी शिक्षा के स्तर को लेकर बहुत कुछ किया जाना शेष है। हमारी शिक्षा व्यवस्था से बच्चे वास्तव में कितना शिक्षित हो रहे हैं, इसे भी हमें अपनी चर्चा में लाना होगा। 
इसलिए बच्चों में शिक्षा का स्तर सुधारने का सबसे बड़ा ढंग है कि उन्हें शिक्षा का उद्देश्य भी समझाया जाए। मात्र स्कूल जाना ही पढ़ाई नहीं है। पढ़ाई ऐसी होनी चाहिए, जो बच्चों को प्रश्न पूछना सिखाए, उन्हें ज्ञान अर्जित करना और ज्ञान बढ़ाना सिखाए, जो जीवन के हर मोड़ पर उन्हें कुछ ना कुछ सीखते रहने के लिए प्रेरित करे। 
स्वामी विवेकानंद भी कहते थे कि शिक्षा का अर्थ मात्र पुस्तकी ज्ञान पाना नहीं है। शिक्षा का लक्ष्य है चरित्र का निर्माण, शिक्षा का अर्थ है मस्तिष्क को सुदृढ़ करना, अपनी बौद्धिक शक्ति को बढ़ाना, जिससे स्वयं के पैरों पर खड़ा हुआ जा सके।
21वीं सदी की अर्थव्यवस्था में, जिस तरह की कुशलता और योग्यता की आवश्यकता है, उसमें हम सभी का दायित्व है कि युवाओं के पास कोई न कोई कौशल अवश्य हो। हमें युवाओं को ऐसा बनाना होगा कि वे अलग सोच व तर्क के साथ सोचें और अपने काम में रचनात्मक दिखें। 
आज की कार्यावली में जिस एक और महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा होनी है, वह है आंतरिक सुरक्षा। देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए किस प्रकार की चुनौतियां हैं, इन चुनौतियों से कैसे निपट सकते हैं, कैसे एक दूसरे का सहयोग कर सकते हैं, इस पर चर्चा होनी है। देश की आंतरिक सुरक्षा को तब तक सुदृढ़ नहीं किया जा सकता, जब तक प्रज्ञता साँझाकरण पर केंद्रित ना हो, एजेंसियों में अधिक तालमेल ना हो, हमारी पुलिस आधुनिक सोच और तकनीक से लैस ना हो। हमने इस मोर्चे पर बड़ा लंबा मार्ग तय किया है किन्तु हमें लगातार अपनी कार्य-कुशलता और क्षमता को बढ़ाते चलना है। हमें हर समय सतर्क और अद्यतन रहना है। 
अं परि की बैठक बहुत ही खुले हुए वातावरण में, बहुत ही स्पष्ट होकर एक दूसरे के विचार सुनने और साझा करने का अवसर देती है। मुझे आशा है कि आप कार्यावली के सभी विषयों पर खुलकर अपनी राय देंगे, अपने सुझाव देंगे। आपके सुझाव बहुत मूल्यवान होंगे। 
जितना ही हम इन मुख्य विषयों पर एक राय बनाने में सफल होंगे, उतना ही कठिनाइयों को पार करना सरल होगा। इस प्रक्रिया में हम न केवल सहकारी संघवाद की भावना और केंद्र-राज्य सम्बन्धों को सुदृढ़ करेंगे बल्कि देश के नागरिकों के श्रेष्ठ भविष्य को भी सुनिश्चित करेंगे। 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज राज्यों से गुप्तचरी सूचना साझा करने को कहा जिससे देश को आंतरिक सुरक्षा संबंधी चुनौतियों से लड़ने में ‘‘चौकन्ना’’ तथा ‘‘अद्यतन’’ रहने में सहायता मिलेगी।
यह राष्ट्र जो कभी विश्वगुरु था, आज भी इसमें वह गुण, योग्यता व क्षमता विद्यमान है |
 आओ मिलकर इसे बनायें; - तिलक 
हमें, यह मैकाले की नहीं, विश्वगुरु की शिक्षा चाहिए। आओ, जड़ों से जुड़ें, मिलकर भविष्य उज्जवल बनायें।।- तिलक
https://www.youtube.com/watch?v=kBzVDhcnrvA&index=57&list=PLaypC1Q7dot2BbeOFAWZW-beQPcYr1G8W 

Monday, July 11, 2016

शिक्षक, राष्‍ट्र के भविष्‍य निर्माता

शिक्षक राष्‍ट्र के भविष्‍य निर्माता हैं
शिक्षको का सम्‍मान होना चाहिए : जावड़ेकर 

Image result for जावड़ेकरअपने गुरूओं के प्रति आभार व्‍यक्‍त करते हुए और राष्‍ट्र निर्माण में शिक्षक की भूमिका पर बल देते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने रविवार को पुणे फरगुसन कॉलेज में आयोजित एक समारोह में शिक्षाविदों और शिक्षकों को सम्‍मानित किया। ‘गुरू प्रणाम’ समारोह में उन्‍होंने कहा कि अपने शिक्षकों को सम्‍मानित करते हुए मैं पूरे देश के शिक्षकों को प्रणाम करता हूं। 
अपने जीवन को मूल्‍यवान बनाने में अपने गुरूओं की भूमिका का स्मरण दिलाते हुए जावड़ेकर ने शिक्षकों से आग्रह किया कि वे शिक्षा को रुचिकर बनाये और इसे घसीटने वाला न बनाये। 
उन्‍होंने कहा कि शिक्षक भारतीय शिक्षा में परिवर्तन ला सकते हैं। सरकार शिक्षकों की योग्‍यता में विश्‍वास करती है। देश में अनेक शिक्षक परिवर्तन लाने का काम कर रहे है, किन्तु सभी शिक्षकों को इस मिशन में शामिल होना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि यदि शिक्षक दृढ़ है, तो वे गुणवत्‍ता सम्‍पन्‍न शिक्षा सुनिश्चित कर सकते है। जावड़ेकर ने कहा कि शिक्षकों के प्रयासों की सराहना की जाएगी और उनका दायित्‍व निर्धारित किया जाएगा। 
उन्‍होंने कहा कि महाराष्‍ट्र में गोपाल कृष्‍ण गोखले, बी.आर. अम्‍बेडकर, महात्‍मा फूले, गोपाल गणेश अगरकर, लोकमान्‍य तिलक, महर्षि कर्वे, कर्मवीर भाउराव पाटिल तथा पंजाबराव देशमुख जैसे सुधारक हुए है, जिन्‍होंने शिक्षा पर बल दिया। जावड़ेकर ने कहा कि शिक्षकों को विद्यार्थियों को बड़े सपने देखने के लिए प्रोत्‍साहित करना चाहिए। 
शिक्षा प्रणाली के परिवर्तन में शिक्षकों की भूमिका का उदाहरण देते हुए जावड़ेकर ने मध्‍यप्रदेश के सतना जिले के पालदेव गांव के बारे में अपने अनुभव को बताया। इस गांव के स्‍कूल की 12वीं कक्षा का परिणाम केवल 28 % था। जब इस गांव को सांसद आदर्श ग्राम योजना के अंतर्गत गोद लिया गया, तो जावड़ेकर ने सभी शिक्षकों को विश्‍वास में लेते हुए उन्‍हें प्रेरित किया। इसका परिणाम ये हुआ कि सात माह में उर्तीण होने का % 28 से 82 हो गया। शिक्षकों के उत्‍साह से परिणाम बदल सकते हैं। मानव संसाधन विकास मंत्री ने विश्‍वास व्‍यक्‍त किया कि शिक्षक शिक्षा की गुणवत्‍ता में सुधार के मिशन में उत्‍साह से भाग लेंगे। 
समारोह में जावड़ेकर ने महाराष्‍ट्र शिक्षा सोसाइटी के पी.एल. गावड़े, जानेमाने लेखक डी.एम.मि रासदर, प्रख्‍यात वैज्ञानिक डॉक्‍टर आर.ए.माशेलकर, शिक्षाविद शरद वाग, पी.सी.सेजवालकर, दादा पुतमबेरकर, डॉक्‍टर एस.एन नवलगुंडकर और डॉक्‍टर वानी को सम्‍मानित किया। 
हमें, यह मैकाले की नहीं, विश्वगुरु की शिक्षा चाहिए।
आओ, जड़ों से जुड़ें, मिलकर भविष्य उज्जवल बनायें।।- तिलक

भाप्रौसं मुंबई की दीक्षांत समारोह पोशाक होगी खादी !

भाप्रौसं मुंबई की दीक्षांत समारोह पोशाक होगी खादी ! 
dagree1 
नदि तिलक। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (भाप्रौसं), मुंबई ने अपने दीक्षांत समारोह की पोशाक के लिए खादी का चयन किया है। गुजरात विश्वविद्यालय के बाद अब खादी ने प्रमुख भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (भाप्रौसं), मुंबई के अधिकारियों के दिल में स्थान बनाया है। खादी अपनाने के बारे में आग्रह और लोकप्रियता से आकर्षित होकर संस्थान ने दीक्षांत समारोह के समय छात्रों द्वारा पहने जाने के लिए 3,500 खादी के अंगवस्त्रम बनाने को कहा गया है। यह एक महत्वपूर्ण पग है और यह दर्शाता है कि खादी का स्थान जीवन के हर क्षेत्र में बढ़ रहा है। भाप्रौसं मुंबई के निदेशक प्रोफेसर देवांग खाखर ने कहा कि खादी हमारा राष्ट्रीय प्रतीक है और छात्रों में राष्ट्रीयता की भावना भरने के लिए हमने खादी को अपनाया है। 
हमें, यह मैकाले की नहीं, विश्वगुरु की शिक्षा चाहिए।
आओ, जड़ों से जुड़ें, मिलकर भविष्य उज्जवल बनायें।।- तिलक

Thursday, July 7, 2016

दो वर्ष में शिक्षा में सुधार के प्रयास किए: स्मृति ईरानी

दो वर्ष में शिक्षा में सुधार के प्रयास किए: स्मृति ईरानी 

दो वर्ष में शिक्षा में सुधार के प्रयास किए: स्मृति ईरानीनदि तिलक। मानव संसाधन विकास मंत्रालय का प्रभार वापस लेकर कपड़ा मंत्रालय का दायित्व दिए जाने के एक दिन बाद आज स्मृति ईरानी ने कहा कि गत दो वर्ष में उनके प्रयास शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने के रहे। उन्होंने देश की सेवा का अवसर देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद कहा। स्मृति ने अपने नए दायित्व के तहत कपड़ा एवं परिधान क्षेत्र को सुदृढ़ बनाने का संकल्प लिया। स्मृति ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘पिछले दो साल में मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सभी कदम छात्रों के लिए सीखने के अवसर बढ़ाने और शिक्षा की गुणवत्ता को सुधारने पर केंद्रित रहे हैं।’’ 
मंगलवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल के परिवर्तन में, स्मृति से मानव संसाधन विकास मंत्रालय के बदले उन्हें अब कपड़ा मंत्रालय सौंपा गया है। मानव संसाधन मंत्रालय का प्रभार प्रकाश जावड़ेकर को सौंपा गया है। कपड़ा राज्य मंत्री संतोष गंगवार को वित्त राज्य मंत्री बनाया गया है। स्मृति ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘मैं सभी के लिए गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा सुनिश्चित करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने को यथार्थ में बदलने में सतत सहयोग देने के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधिकारियों का धन्यवाद करती हूं।’’ ‘‘मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को धन्यवाद देती हूं कि उन्होंने मुझे पहले मानव संसाधन विकास मंत्रालय में और अब कपड़ा मंत्रालय में देश की सेवा का अवसर दिया।’’ 
इसके बाद स्मृति ने गंगवार को कपड़ा मंत्रालय की सेवाओं में सुधार पर बधाई दी। गत माह, सरकार ने कपड़ा एवं परिधान क्षेत्र के लिए 6000 करोड़ रूपए के संकुल को स्वीकृति दी थी। उन्होंने कहा, ‘‘संतोष गंगवार जी को भारतीय कपड़ा मंत्रालय में उनके योगदान के लिए धन्यवाद और मेरे नये दायित्व के शुभारम्भ में उनकी ओर से सहयोग का आश्वासन दिए जाने पर भी उन्हें धन्यवाद।’’ स्मृति ने कहा, ‘‘हमारे देश के लिए अति महत्वपूर्ण कपड़ा एवं परिधान क्षेत्र को सशक्त करने के लिए कपड़ा मंत्रालय के अधिकारियों के साथ काम करने को लेकर आशान्वित हूं।’' 
हमें, यह मैकाले की नहीं, विश्वगुरु की शिक्षा चाहिए।
आओ, जड़ों से जुड़ें, मिलकर भविष्य उज्जवल बनायें।।- तिलक 

Tuesday, April 26, 2016

स्मृति ईरानी: भा.प्रौ.सं. में संस्कृत पढ़ाऐं -

स्मृति ईरानी: भा.प्रौ.सं. में संस्कृत पढ़ाऐं - 

मा सं मं स्मृति ईरानी ने कहा है कि भारतीय प्रौद्योगिकी संसथान भा.प्रौ.सं.  में संस्कृत भी पढ़ाई जानी चाहिए। पूर्व सीईसी एन. गोपालास्वामी की अध्यक्षता वाले समूह की रपट में कहा गया है कि भा.प्रौ.सं. में संस्कृत में दर्शाए गए ढंग से विज्ञान और तकनीक को पढ़ाया जाना चाहिए। ईरानी ने इस बात को गंभीरता से लेते हुए भा.प्रौ.सं. को ऐसा करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा है कि वह संस्कृत भाषा भी पढ़ाएं, जिसमें संस्कृत में दर्शाए गए विज्ञान और तकनीक के बारे में बताया गया हो। केंद्रीय विश्वविद्यालयों में रिक्त पदों के आंकड़े- बता दें कि केंद्रीय विश्वविद्यालयों में 5900 से अधिक शिक्षक पद रिक्त हैं। मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार 5928 पद रिक्त हैं। मानव संसाधन एंव विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने लोक सभा में कहा कि विभिन्न केंद्रीय विद्यालयों में 16,00 शिक्षक पद हैं। ईरानी द्वारा दिए गए आंकड़ों के अनुसार 1 जनवरी 2016 तक पदों की संख्या कुल 10,672 है, जिनमें से 5,928 रिक्त हैं। ईरानी ने कहा कि इन पदों को भरने का दायित्व केंद्रीय विश्वविद्यालयों का हैं; जो कि स्वायत्त संस्थाएं हैं। उन्होंने कहा कि इस बारे में विवि अनुदान आयोग को सूचित कर दिया गया है।  
हमें, यह मैकाले की नहीं, विश्वगुरु की शिक्षा चाहिए।
आओ, जड़ों से जुड़ें, मिलकर भविष्य उज्जवल बनायें।।- तिलक

Monday, March 14, 2016

छात्रों से अत्यधिक शुल्क लेने से निपटने का बना तंत्र: स्मृति

छात्रों से अत्यधिक शुल्क लेने से निपटने का बना तंत्र: स्मृति 
तिलक 
14 मार्च 16 न दि 
सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार शैक्षणिक संस्थाओं में छात्रों से अत्यधिक शुल्क वसूलने और इससे जुड़े मुद्दों से निपटने के तंत्र को व्यवस्थित किया गया है। साथ ही समाज के वंचित वर्ग के बच्चों को सस्ती शिक्षा सुलभ कराने के उद्देश्य से वृहद 'मुक्त आनलाइन कोर्स' आधारित मंच के द्वारा ‘स्वयं’ पहल की जायेगी। लोकसभा में बूरा नरसैया गौड़ के पूरक प्रश्नों के उत्तर में मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि स्ववित्त पोषण शिक्षण संस्थानों द्वारा मनमाना शुल्क वसूल किए जाने के मुद्दे पर एआईसीटीई विचार करती है। 
उन्होंने कहा कि इस वर्ग के अभियांत्रिकी महाविद्यालयों में कई सीटें खाली रह जाने का एक बड़ा कारण यह भी है कि इनके पाठ्यक्रम उद्योगों की आवश्यकताओं के अनुरूप नहीं हैं। उन्होंने कहा कि सरकार आगामी सत्र से एक नया वृहद मुक्त आनलाइन कोर्स आधारित पोर्टल ‘स्वयं’ आरंभ कर रही है। यह कार्यक्रम मोबाइल फोन आधारित होगा, जिसके तहत 500 पाठ्यक्रम उपलब्ध कराए जाएंगे। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम के तहत दिए जाने वाले प्रमाणपत्रों और डिप्लोमा को संबंधित शिक्षण संस्थानों द्वारा मान्यता दी जाएगी। मंत्री ने कहा कि स्वयं आरम्भ करने के पीछे मुख्य लक्ष यह है कि देश के सभी बच्चों को शिक्षा से जोड़ा जा सके।
स्मृति ने कहा कि शैक्षणिक संस्थाओं में छात्रों से अत्यधिक शुल्क वसूलने और इससे जुड़े मुद्दों से निपटने हेतु पहले से उपलब्ध तंत्र को और व्यवस्थित किया गया है। उन्होंने कहा कि जहां तक शिक्षण संस्थाओं द्वारा शुल्क वसूलने का प्रश्न है, इस बारे में यूजीसी नियमन 2010 लागू है। अधिकांश राज्य शुल्क निर्धारण के लिए अधिकार सम्पन्न हैं, ताकि कोई छात्रों से अधिक शुल्क न वसूल सके। मंत्री ने कहा कि सरकार ने अपने केंद्र से परिचय हेतु ‘नो योर कालेज पोर्टल’ भी आरम्भ किया है, जिसमें कालेजों को सम्पूर्ण जानकारी प्रस्तुत करने को कहा गया है। इसमें कालेजों को अकादमिक शिक्षकों की जानकारी, पाठ्यक्रमों की जानकारी, शुल्क ढांचा, प्रयोगशाला की जानकारी सभी बातें सार्वजनिक करने को कहा गया है। 
हमें, यह मैकाले की नहीं, विश्वगुरु की शिक्षा चाहिए।
आओ, जड़ों से जुड़ें, मिलकर भविष्य उज्जवल बनायें।।- तिलक