आकर्षक ब्लॉग ग्रह, उपग्रह, और ब्रह्माण्ड विज्ञान के बारे में तक्षशिला और नालंदा विश्व विद्यालयों को अग्नि की भेंट कर वो कहते हैं तुम अज्ञानी होपश्चिम की शिक्षा को ही कल्याण का मार्ग समझाया जाता हैसत्य हम जानते हैंहमें यह नहीं, विश्व गुरु की शिक्षा चाहिए- तिलक संपादक युगदर्पण. 9911111611, 9999777358.

बिकाऊ मीडिया -व हमारा भविष्य

: : : क्या आप मानते हैं कि अपराध का महिमामंडन करते अश्लील, नकारात्मक 40 पृष्ठ के रद्दी समाचार; जिन्हे शीर्षक देख रद्दी में डाला जाता है। हमारी सोच, पठनीयता, चरित्र, चिंतन सहित भविष्य को नकारात्मकता देते हैं। फिर उसे केवल इसलिए लिया जाये, कि 40 पृष्ठ की रद्दी से क्रय मूल्य निकल आयेगा ? कभी इसका विचार किया है कि यह सब इस देश या हमारा अपना भविष्य रद्दी करता है? इसका एक ही विकल्प -सार्थक, सटीक, सुघड़, सुस्पष्ट व सकारात्मक राष्ट्रवादी मीडिया, YDMS, आइयें, इस के लिये संकल्प लें: शर्मनिरपेक्ष मैकालेवादी बिकाऊ मीडिया द्वारा समाज को भटकने से रोकें; जागते रहो, जगाते रहो।।: : नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक विकल्प का सार्थक संकल्प - (विविध विषयों के 28 ब्लाग, 5 चेनल व अन्य सूत्र) की एक वैश्विक पहचान है। आप चाहें तो आप भी बन सकते हैं, इसके समर्थक, योगदानकर्ता, प्रचारक,Be a member -Supporter, contributor, promotional Team, युगदर्पण मीडिया समूह संपादक - तिलक.धन्यवाद YDMS. 9911111611: :

Sunday, September 4, 2016

शिक्षक दिवस

शिक्षक दिवस - इतना तो हम सभी जानते हैं कि भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन (5 सितंबर) भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। किन्तु क्यों ? संभवतः सब नहीं जानते हों। 
सर्वपल्ली डॉ राधा कृष्णन जी
सर्वपल्ली राधाकृष्णन
वैसे तो विश्व के कई देशों में गुरु के सम्मान में टीचर्स डे अर्थात शिक्षक दिवस मनाया जाता है किन्तु भारत में यह परम्परा युगों युगों से चली आ रही है। सत युग हो द्वापर या त्रेता गुरु शिष्य परम्परा के अनुपम उदाहरण मिलते हैं। जिसमें गुरु को साक्षात् परमेश्वर का स्थान दिया गया है। 

'गुरु ब्रह्मा, गुरुर्विष्णु गुरुर्देवो महेश्वरः। 
गुरुः साक्षात परब्रह्म तस्मैः श्री गुरुवेः नमः।।' 
अर्थात गुरू ही ब्रहमा है, गुरू ही विष्णु है और गुरु की महेश है। साक्षात परब्रह्म स्वरूप ऐसे गुरू को नमस्कार। 
5 सित 1888 को तमिलनाडु में जन्मे, स्वतन्त्र भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति 1952 से 1962 रहे डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन, डॉ राजेन्द्र प्रसाद के पश्चात् भारत के द्वितीय राष्ट्रपति बने। वे भारतीय संस्कृति के संवाहक, महान दार्शनिक और एक आस्थावान हिन्दू विचारक होने के साथ ही एक प्रख्यात शिकसजविद भी थे। इन्हीं गुणों के कारण सन् 1954 में भारत सरकार ने उन्हें सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से अलंकृत किया था। उन्हीं के जन्मदिन (5 सितंबर) को भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। 
राजनीती में आने से पूर्व उन्होंने अपने जीवन के महत्वपूर्ण 40 वर्ष शिक्षक के रूप में व्यतीत किये थे। उनमें एक आदर्श शिक्षक के सारे गुण उपस्थित थे। उन्होंने अपना जन्म दिन अपने व्यक्तिगत नाम से नहीं अपितु सम्पूर्ण शिक्षक समुदाय को सम्मानित किये जाने के उद्देश्य से शिक्षक दिवस के रूप में मनाने की इच्छा व्यक्त की थी जिसके परिणामस्वरूप आज भी सारे देश में उनका जन्म दिन (5 सितम्बर) को प्रति वर्ष शिक्षक दिवस के नाम से ही मनाया जाता है। 
भारत तथा भारतीयता के शत्रु , जो हमारे इतिहास को मिटाने नकारने के लिए कुतर्कों का सहारा लेते रहते हैं, अवश्य ही मेरी बात को झुठलाने हेतु यह कुतर्क दे सकते है कि शिक्षक का महत्त्व आप युगों युगों से मानते रहे हैं क्या प्रमाण है?  सर्वपल्ली डॉ राधा कृष्णन जी 19 वीं शताब्दी के हैं तो उनका जन्मदिन (५ सितंबर) भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाकर कैसे कह सकते हैं कि गुरु युगों युगों से आपके पूजनीय रहे हैं। आपने तो शिक्षक को सम्मान देना 19 वीं शताब्दी में शुरू किया है।
इसे स्पष्ट करने हेतु विवेचन करें भारतीय इतिहास और साहित्य का, जो ऐसे प्रमाणों से भरा पड़ा है। मेरी बात की सत्यता को प्रमाणित करने तथा उनके कुतर्कों का सामना करने हेतु उनमें से कुछ ही जिज्ञासा शाँत करने में सक्षम हैं। आइये, उनमें से कुछ का अवलोकन करते हैं। --
618 वर्ष पूर्व जन्मे संत कबीर दास के दोहे में 'गुरु शिष्य'
इस विषय के 50 में से यहाँ मात्र 10 दोहे ही लिए गए है।

(41)
गुरु गोबिंद दोऊ खड़े, का के लागूं पाय।
बलिहारी गुरु आपणे, गोबिंद दियो मिलाय॥
(42)
गुरु कीजिए जानि के, पानी पीजै छानि ।
बिना विचारे गुरु करे, परे चौरासी खानि॥
(43)
सतगुरू की महिमा अनंत, अनंत किया उपकार।
लोचन अनंत उघाडिया, अनंत दिखावणहार॥
(44)
गुरु किया है देह का, सतगुरु चीन्हा नाहिं ।
भवसागर के जाल में, फिर फिर गोता खाहि॥
(45) 
शब्द गुरु का शब्द है, काया का गुरु काय।
भक्ति करै नित शब्द की, सत्गुरु यौं समुझाय॥
(46)
बलिहारी गुर आपणैं, द्यौंहाडी कै बार।
जिनि मानिष तैं देवता, करत न लागी बार।।
(47)
कबीरा ते नर अन्ध है, गुरु को कहते और। 
हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर ॥
(48) 
जो गुरु ते भ्रम न मिटे, भ्रान्ति न जिसका जाय।
सो गुरु झूठा जानिये, त्यागत देर न लाय॥
(49)
यह तन विषय की बेलरी, गुरु अमृत की खान।
सीस दिये जो गुरु मिलै, तो भी सस्ता जान॥
(50) 
गुरु लोभ शिष लालची, दोनों खेले दाँव।
दोनों बूड़े बापुरे, चढ़ि पाथर की नाँव॥ 
संत कबीर दास जी के लेखन का स्तर एक तो 700 वर्ष पूर्व के भारत की शिक्षा और बौद्धिक स्तर को दर्शाता है दूसरे उन्होंने गुरु महिमा का वर्णन जिस प्रकार किया है उससे यह स्पष्ट होता है कि उन्हें एक श्रेष्ठ गुरु का सानिध्य मिला, जिससे गुरु के प्रति उनके मन में आसक्ति थी तथा सबसे प्रमुख 700 वर्ष पूर्व के भारत में गुरु शिष्य परम्परा के अन्तर्गत एक सामान्य जुलाहे के मन में भी गुरु के प्रति कितना आदर सम्मान का भाव है। जब हमारे भारत में शिक्षक दिवस को औपचारिक रूप में नहीं मनाया जाता था। 
अर्थात भारत में शिक्षक दिवस भले ही औपचारिक रूप में अब मनाया जाता है। इसका अर्थ यह नहीं कि शिक्षक का सम्मान नहीं था अपितु यह प्रमाण है कि आदर सम्मान अनुभूति है जो किसी भी औपचारिकता पर आश्रित नहीं है। यह मेरी बात की सत्यता को और भी बलपूर्वक स्पष्ट व प्रमाणित करता है। 
हमें, यह मैकाले की नहीं, विश्वगुरु की शिक्षा चाहिए।
आओ, जड़ों से जुड़ें, मिलकर भविष्य उज्जवल बनायें।।- तिलक
Post a Comment